1.MCI ( MEDICAL COUNCIL OF INDIA) 2017 2. NEET EXAMINATION 2017 REFUSED TO INVALIDATE BY THE SUPREME COURT 3.NEET UG (15 % ALL INDIA QUOTA) UNDERGRADUATE MEDICAL/ DENTAL SEATS ONLINE ALLOTMENT PROCESS (ONLINE COUNSELING 2017 ONWARDS)

लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु उद्योग के बारे में जानकारी, घरेलू उद्योग, लघु उद्योग लिस्ट laghu udyog and kutir udyog in Hindi,small business in hindi




 लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु उद्योग के बारे में जानकारी, घरेलू उद्योग,                                          लघु उद्योग लिस्ट

 लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु उद्योग के बारे में जानकारी, घरेलू उद्योग, लघु उद्योग लिस्ट
 लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु उद्योग के बारे में जानकारी, घरेलू उद्योग, लघु उद्योग लिस्ट




हर कोई व्यक्ति अपने जीवन के एक निश्चित ौवनं  सुनिचित समय के पश्चात उस दौर में पहुँचता है जहां  वह पैसा कमाने का काबिल बाण जाता है  या जयादा  से जयादा  धन  कामना चाहता है। लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु उद्योग के बारे में जानकारी, घरेलू उद्योग, लघु उद्योग लिस्ट

बहुत सरे आजकल के युआ बहुत अपना समय बिना कुछ किये अपना समय बिता देते है अपने सक्छम के जाने बिना  
और यहां पर बहुत सरए युआ 


 आजकल के युवाओ का कुछ नया करने का  सकरात्मक जूनून देखते ही बनता है। 


 पर ये ज़रूरी नहीं है की  सवी युआ  यापप्पार सुरु करें  हर के जिंदिगी में अपनी सोच के साथ हर कुछ करने की आजादी है  उनमे से हिन् कई 

Related :-

ब्रांड मार्केटिंग |BRAND MARKETING





इंसान  बिज़नेस को चुनता है 
यदि कोई  मुझसे व् पूछे तो मई व् बिज़नेस हिन् चूस करूँगा 
पर 
हम सब नया बिज़नस शुरू करने के लिए सक्षम हो और अगर नए बिज़नस की शुरुवात कर भी लेते है बिना कोई स्किल के तो ये व् नकरात्मक ही परिणाम देगा ,बिज़नेस में निरंतरता रखना बहुत हिन् जरुरी जो इसम अदिकतर लोग इसमें खड़े नहीं हो पते है 
और बहुत कोई हो व् जाते है ये एक सकरात्मक सोच की फाल है

क्या आप अपना न्य बिज़नेस सुरु करना कहते हैं?
मेरे सोच के लिए एक बहुत ही ाचा और साहसिन विचार है मई हमेशा इस तरह के लोगो को सपोर्ट करता हूँ  
जैसे की

  
 अगर कोई व्यक्ति अपना खुद का उद्योग शुरू करना चाहता है तो
 उसके लिए ज़रूरत होती है
१.एक अछि सोच की 
२.एक अच्छे आईडिया की।
३.फिर  अच्छी प्लानिंग की 
४.और धन की वि 



Releated:-


उद्यमिता - सफलता के मूल मंत्र SUCCESSFUL PUBLIC RELATION


बहुत सरे बड़े बिज़नेस करने को ेशुइक होते है बहुत कोई छोटे बिज़नेस करने के लिए दोनों में सिर्फ सोच की फरक हाउ 

स्माल बुसिनेस लघु  उद्योग

लघु उद्योग (छोटे पैमाने की औद्योगिक इकाइयाँ) वे होती है

 जो मध्यम स्तर के विनियोग की सहायता से उत्पादन प्रारम्भ करती हैं। इन इकाइयों मे श्रम शक्ति की मात्रा भी कम होती है और सापेक्षिक रूप से वस्तुओं एवं सेवाओं का कम मात्रा में उत्पादान किया जाता है। ये बड़े पैमाने के उद्योगो से पूंजी की मात्रा, रोजगार, उत्पादन एवं प्रबन्ध, आगतों एवं निर्गतो के प्रवाह इत्यादि की दृष्टि से भिन्न प्रकार की होती है।


Releated:-


जीएसटी क्या है , जीएसटी प्रभाव ,हिंदी में जीएसटी क्या है, हिंदी में जीएसटी प्रभाव WHAT IS GST IN HINDI , GST EFFECT IN HINDI







 लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु उद्योग के बारे में जानकारी, घरेलू उद्योग, लघु उद्योग लिस्ट


लघु उद्योगों के उद्देश्य:

लघु उद्योगों का मुख्य उद्देश्य रोजगार के अवसरों में वृद्धि करते हुए बेरोजगारी एवं अर्ध बेरोजगारी की समस्या का समाधान करना है क्योंकि लघु उद्यमों के श्रम प्रधान होने के कारण उनमें विनियुक्त पूंजी की इकाई अपेक्षाकृत अधिक रोजगार कायम रखती है।
दूसरा मुख्य उद्देश्य आर्थिक शक्ति का समान वितरण करना है। कुटीर व लघु उद्योगों से आर्थिक सत्ता का विक्रेन्द्रीयकरण होता है।
आम जनता को श्रेष्ठ वस्तुएं उपलब्ध कराना इनका मुख्य उद्देश्य है।
श्रम प्रधान तकनीक के कारण श्रमिकों की बहुतायत रहती है। अतः आवश्यक है कि वे औद्योगिक शांति की स्थापना करें।


Releated:-

उद्यमी को सूचना सुरक्षा की आवश्यकता क्यों है? | WHY ENTREPRENEUR NEED INFORMATION SECURITY ?



लघु उद्योगों के माध्यम से देश की सभ्यता एवं संस्कृति सुरक्षित रहती है। अधिकाशतः लधु उद्योगों द्वारा कलात्मक एवं परम्परागत वस्तुओं का निमार्ण किया जाता है एवं अधिकांशतः ये उद्योग श्रम प्रधान तकनीक पर आधारित होते है जिससे उद्योगों में पारस्परिक सद्भावना सहकारिता, समानता एवं भ्रातृत्व की भावना को बल मिलता है।
लघु उद्योगों का मुख्य उद्देश्य है कि वे प्राकृतिक साधानों का अनुकूलतम उपयोग करें।
मानवीय मूल्यों की दृष्टि से ‘सादा जीवन उच्च विचार’ की भावना का सृजन करें।
व्यापार संतुलन एवं भुगतान संतुलन को अनुकूल बनाने हेतु आवश्यक है कि ये अत्याधिक विदेशी मुद्रा का अर्जन करें।
भारतीय अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए इनका उद्देश्य अधिक से अधिक श्रेष्ठ उत्पादन करना है।


releated:-

उद्यमी छोटे में बड़ा बदल सकते हैं | ENTREPRENEURS CAN CHANGE SMALL INTO BIG



यहाँ हम कुछ लघु उद्योगों की सूची दे रहे है जिससे आप अपना स्वयं का व्यवसाय का शुभारंभ कम राशि में भी कर सकते है:


                                      लघु उद्योग लिस्ट

लेखन सामग्री का उत्पादन

 लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु उद्योग के बारे में जानकारी, घरेलू उद्योग, लघु उद्योग लिस्ट laghu udyog and kutir udyog in Hindi


(क) चॉक (Chalk)
कच्चा माल (Raw Material)
चॉक बनाने के यन्त्र
उत्पादन विधि (Manufacturing Process)
चॉक की पैकिंग
मशीन एवं उपकरण (Machinery & Equipments)
(ख) स्लेट-पेन्सिल (Slate- Pencil)
स्लेट पेन्सिल बनाने की मशीन
स्लेट पेन्सिल बनाने की विधि
मशीनरी एवं उपकरण (Machinery & Equipments)
आय-व्यय (Cost Estimation) वार्षिक: स्लेट पेन्सिल (Slate- Pencil)

(ग) पेस्टल कलर (Pastel Colours)
मोमी कलर पेस्टल

मोमों का मिश्रण
विभिन्न रंगों के पेस्टल के लिए – जिंक व्हाइट, लीथोपीन,
क्ले करल पेस्टल

(घ) दर्जियों के चॉक (Tailors Chalk)
दर्जियों के चॉक का फार्मूला
मशीनरी एवं उपकरण (Machinery & Equipments)
वित्तीय परियोजना (Cost Estimation) वार्षिक: टेलर-चॉक (Tailors Chalk)
(ङ) ऑफिस पेस्ट (Office Paste)
चिपकने वाले पदार्थ का फामॅूला
(च) ऑफिस गम (Office Gum)
मशीनरी एवं उपकरण (Machinery & Equipments)
ऑफिस पेस्ट व ऑफिस गम

वित्तीय परियोजना (Cost Estimation) वार्षिक : ऑफिस पेस्ट एवं गम

आयुर्वेदिक फार्मेसी (Ayurvedic Pharmacy)
आयुर्वेदिक औषधियों के समूह

आयुर्वेदिक औषधि बनाने की योजना
गुणवत्ता/मानक (Standard)
आधार और अनुमान
आयुर्वेदिक औषधियां निर्माण करने का लागत मूल्य (अनुमानित)


related :-

महिला उद्यमी दुनिया को बदल सकते हैं |WOMEN ENTREPRENEURS CAN CHANGE THE WORLD




सौंदर्य व श्रृंगार प्रसाधन उद्योग

1. एम्लशन (Emulsion)
2. पाउडर (Powder)
3. स्टिक्स (Sticks)
4. केक (Cake)
5. ऑयल (Oil)
6. म्युसिलेज (Mucilage)
7. जैली (Jelly)

8. सस्पेन्शन (Suspension)
9. पेस्ट (Paste)
10. सोप (Soap)
11. घोल (Solution)

सौंदर्य प्रसाधनों का वर्गीकरण (Classification of Cosmetics)

(i) चर्म के लिए (For Skin)
(ii) बाल के लिए (For Hair)
(iii) नाखून के लिए (For Nails)
(iv) दात और मुंह के लिए (For Teeth & Mouth)
(v) बोर्डलाइन तथा किन-रेड प्रोडक्ट्

(क) फेस पाउडर (Face Powder)
कच्चा माल (Raw Materials)
उत्पादन विधि (फेस पाउडर)
सफेद फेस पाउडर बेस के फार्मूले

if you like this post then share with your friends n family
thanks for visiting!!
 लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु उद्योग के बारे में जानकारी, घरेलू उद्योग, लघु उद्योग लिस्ट

Previous
Next Post »
Thanks for your comment