Latest

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Tuesday, 22 May 2018

क्लाइंट साइड और सर्वर साइड के बीच अंतर difference between client side & server side


 क्लाइंट साइड और सर्वर साइड के बीच अंतर difference between client side & server side 

 क्लाइंट साइड और सर्वर साइड के बीच अंतर difference between client side & server side
 क्लाइंट साइड और सर्वर साइड के बीच अंतर difference between client side & server side 



web development एक प्रकार का संवाद (communication) है जिसमे 
server (एक ऐसा कंप्यूटर जो request पर जानकारी उपलब्ध करवाता है ) 
एवं client (एक ऐसा कंप्यूटर जो server को request भेजता है ताकि 
जानकारी मिल सके ) मिलकर संवाद स्थापित करते हैं ! इस प्रकार के 
communication से स्थापित हुआ रिश्ता जानकारियों को client के वेब ब्राउज़र मैं दर्शाने का काम करता है हम एक result की वेबसाइट देख रहे हैं जो रोल नम्बर मांगती है विद्यार्थी एक cyber caffe मैं बैठा उस रोल नम्बर को भरकर result देखता है ऐसे मैं result बताने वाली वेब साईट server हुए जो request पर result दिखा रही होती है और cyber caffe मैं जिस कंप्यूटर से request भेजी गयी है वह client कहलायेगा जिसने उपर्युक्त सुचना मांगी है !



Server side programming :

इनमे वे प्रोग्राम या script आती है जो server पर चलती हैं जिनमे

इस्तेमाल कर्ता इनपुट /input देता है

input पर request प्रोसेस होती है

storage/database के साथ communication होता है

जानकारी को वेब पेज पर डिस्प्ले कर दिया जाता है

जिनमे php, Asp.net in C#, C++, Visual Basic आदि आते हैं !
client side programming :

ये server पर न चल कर client के कंप्यूटर पर ही run होती है और result दिखा देती हैं ! ये local storage, cookies जैसे अस्थायी तौर के storage को काम मैं लेती है जिनमे javascript, html, css आदि का इस्तेमाल होता है ! उदहारण के तौर पर आपने इन्टरनेट पर कैलकुलेशन करने का तरीका किसी जीवन सुरक्षा प्रदान करने वाली वेबसाइट मैं देखा होगा इनमें डाटा फिक्स होता है आप पालिसी , उम्र तथा maturity वर्ष डालते हैं तो यह प्रोसेस होता है और हाथों हाथ result आपको मिल जाता है ये केवल javascript मैं बना हुआ calculator होता है इसमें न तो database से कुछ आ रहा होता है न ही यूजर के बतौर आप ही कुछ इसमें save कर रहे होते हैं !

मुख्य अंतर / 

difference between client side & server side :

client side forms को validate करने मैं काम आती है ,

animation चलाने तथा style sheet को apply करने मैं काम आती है वही server side मैं database से request पर डाटा लाना insert करना 

तथा update करना व्यापारिक नियमों को apply करना आदि काम होते हैं 

(जैसे यदि आप 5000 से कम वेतन पाने वालों को इस साल से 500 रुपये का अतिरिक्त वेतन देना चाहते हैं तो यह उन सभी कर्मचारियों पर लागु हो जायेगा जो 5000 से कम वेतन पाते हों )


or

क्लाइंट-साइड और सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग के बीच अंतर

ग्राहक-पक्ष पर्यावरण

स्क्रिप्ट चलाने के लिए प्रयुक्त क्लाइंट-साइड पर्यावरण आमतौर पर एक ब्राउज़र होता है। प्रसंस्करण अंतिम उपयोगकर्ता कंप्यूटर पर होता है। स्रोत कोड को वेब सर्वर से इंटरनेट पर उपयोगकर्ता कंप्यूटर पर स्थानांतरित किया जाता है और सीधे ब्राउज़र में चलाया जाता है।

क्लाइंट कंप्यूटर पर स्क्रिप्टिंग भाषा को सक्षम करने की आवश्यकता है। कभी-कभी यदि कोई उपयोगकर्ता सुरक्षा जोखिमों के प्रति जागरूक होता है तो वे स्क्रिप्टिंग सुविधा को बंद कर सकते हैं। जब ऐसा होता है तो स्क्रिप्ट चलने का प्रयास करते समय उपयोगकर्ता को चेतावनी देने के लिए आम तौर पर एक संदेश पॉप अप होता है।

सर्वर-साइड पर्यावरण

सर्वर-साइड वातावरण जो एक स्क्रिप्टिंग भाषा चलाता है वह एक वेब सर्वर है। डायनामिक HTML पेज जेनरेट करने के लिए वेब सर्वर पर सीधे एक स्क्रिप्ट चलाकर उपयोगकर्ता का अनुरोध पूरा हो जाता है। 

यह HTML क्लाइंट ब्राउज़र पर भेजा जाता है। आमतौर पर यह इंटरैक्टिव वेब साइट्स प्रदान करने के लिए उपयोग किया जाता है जो सर्वर पर डेटाबेस या अन्य डेटा स्टोर्स को इंटरफेस करता है।

यह क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग से अलग है जहां स्क्रिप्ट को देखने वाले वेब ब्राउज़र द्वारा आमतौर पर जावास्क्रिप्ट में चलाया जाता है। सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग का प्राथमिक लाभ उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं, पहुंच अधिकारों या डेटा स्टोर में क्वेरी के आधार पर प्रतिक्रिया को अत्यधिक अनुकूलित करने की क्षमता है।



Differences between Client-side and Server-side Scripting

Client-side Environment

The client-side environment used to run scripts is usually a browser. The processing takes place on the end users computer.

 The source code is transferred from the web server to the user's computer over the internet and run directly in the browser.

The scripting language needs to be enabled on the client computer. Sometimes if a user is conscious of security risks they may switch the scripting facility off. 

When this is the case a message usually pops up to alert the user when the script is attempting to run.

Server-side Environment

The server-side environment that runs a scripting language is a web server. A user's request is fulfilled by running a script directly on the web server to generate dynamic HTML pages.

 This HTML is then sent to the client browser. It is usually used to provide interactive websites that interface to databases or other data stores on the server.


This is different from client-side scripting where scripts are run by the viewing web browser, usually in JavaScript.

 The primary advantage to server-side scripting is the ability to highly customize the response based on the user's requirements, access rights, or queries into data stores.




    TOP  POSITIVE ARTICLE OF 2018


                               1.  2018   How-to-develop-self-confidence


                                               2.    2018 positive thinking



                                                3.   2018 inspirational stories


                                                    4.   2018 success stories


                                5.   2018 online short stories



                                                 6. 2018 best way to reduce stress

difference between client side scripting and server side scripting with example

No comments:

Post a Comment

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();

Post Top Ad