26 जनवरी ,गणतंत्र दिवस का अर्थ (India)



26 जनवरी ,गणतंत्र दिवस का अर्थ  




गणतन्त्र (गण+तंत्र) का अर्थ है, जनता के द्वारा जनता के लिये शासन। इस व्यवस्था को हम सभी "गणतंत्र दिवस" के रूप में मनाते हैं। वैसे तो भारत में सभी पर्व बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं, परन्तु "गणतंत्र दिवस" को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाते हैं। इस पर्व का महत्व इसलिये भी बढ जाता है क्योंकि इसे सभी जाति एवं वर्ग के लोग एक साथ मिलकर मनाते हैं। "गणतंत्र दिवस", 26 जनवरी को ही क्यों मनाते हैं? मित्रों, जब अंग्रेज सरकार की मंशा भारत को एक स्वतंत्र उपनिवेश बनाने की नजर नही आ रही थी, तभी 26 जनवरी 1929 के लाहौर अधिवेशन में जवाहरलाल नेहरु जी की अध्यक्षता में कांग्रेस ने पूर्णस्वराज्य की शपथ ली। पूर्ण स्वराज के अभियान को पूरा करने के लिये सभी आंदोलन तेज कर दिये गये थे। सभी देशभकतों ने अपने-अपने तरीके से आजादी के लिये कमर कस ली थी। एकता में बल है, की भावना को चरितार्थ करती विचारधारा में अंग्रेजों को पिछे हटना पङा। अंतोगत्वा 1947 को भारत आजाद हुआ, तभी यह निर्णय लिया गया कि 26 जनवरी 1929 की निर्णनायक तिथी को "गणतंत्र दिवस" के रूप में मनायेंगे।



Tag:-गणतंत्र दिवस पर भाषण 2018,गणतंत्र दिवस पर भाषण 2018 भारतीय गणतंत्र दिवस गणतंत्र दिवस 26 जनवरी पर भाषण गणतंत्र दिवस पर शायरी स्वतंत्रता दिवस गणतंत्र दिवस पर भाषण स्वतंत्रता दिवस पर शायरी गणतंत्र दिवस पर भाषण 2017 26 जनवरी गणतंत्र दिवस स्वतंत्रता दिवस पर कविता गणतंत्र दिवस की शायरी स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण गणतंत्र दिवस पर भाषण 2016 गणतंत्र दिवस पर कविता स्वतंत्रता दिवस पर शेर स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर शेर स्वतंत्रता दिवस पर भाषण गणतंत्र दिवस पर निबंध गणतंत्र का अर्थ गणतंत्र दिवस पर गीत गणतंत्र दिवस पर छोटी कविता स्वतंत्रता दिवस पर बाल कविता स्वतंत्रता दिवस पर गीत स्वतंत्रता पर कविता गणतंत्र दिवस 2017 26 जनवरी पर शायरी 26 january speech in hindi for school 26 जानेवारी 2016 भाषण 26 जनवरी भाषण 26 जनवरी पर भाषण 2017 गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है 26 जनवरी गणतंत्र दिवस 2017 26 जानेवारी भाषण मराठी शायरी देशभक्ति पर गणतंत्र दिवस पर गीत गणतंत्र दिवस पर शेर गणतंत्र दिवस पर  26 जनवरी गणतंत्र दिवस शायरी 26 जनवरी गणतंत्र दिवस 2018 26 जनवरी 1950 गणतंत्र दिवस 2017 के मुख्य अतिथि 26 जनवरी शायरी 26 जनवरी गणतंत्र दिवस निबंध गणतंत्र दिवस पर भाषण २६जानेवारी भाषण मराठी भाषण 26 january speech in marathi wikipedia प्रजासत्ताक दिन कविता प्रजासत्ताक दिन निबंध प्रजासत्ताक दिन 2016 26 जानेवारी भाषण hindi, आंध्र प्रदेश Āndhra Pradēśh 2 Arunachal Pradesh अरुणाचल प्रदेश Aruṇāchal Pradēśh 3 Assam असम Asam 4 Bihar बिहार Bihār 5 Chhattisgarh छत्तीसगढ़ Chattīsagaṛh 6 Goa गोआ Gō’ā 7 Gujarat गुजरात Gujarāt 8 Haryana हरियाणा Hariyāṇā 9 Himachal Pradesh हिमाचल प्रदेश Himāchal Pradēśh 10 Jammu and Kashmir जम्मू और कश्मीर Jam’mū aur Kaśhmīr 11 Jharkhand झारखंड Jhārakhaṇḍ 12 Karnataka कर्नाटक Karnāṭaka 13 Kerala केरल Kērala 14 Madhya Pradesh मध्य प्रदेश Madhya Pradēśh 15 Maharashtra महाराष्ट्र Mahārāṣṭra 16 Manipur मणिपुर Maṇipur 17 Meghalaya मेघालय Mēghālaya 18 Mizoram मिज़ोरम Mizōram 19 Nagaland नागालैंड Nāgālaṇḍ 20 Odisha ओडिशा Ōḍiśā 21 Punjab पंजाब Pan̄jāb 22 Rajasthan राजस्थान Rājasthān 23 Sikkim सिक्किम Sikkim 24 Tamil Nadu तमिलनाडु Tamilanāḍu 25 Tripura त्रिपुरा Tripurā 26 Uttar Pradesh उत्तर प्रदेश Uttara Pradēśh 27 Uttarakhand उत्तराखंड Uttarākhaṇḍ 28 West Bengal पश्चिम बंगाल Paśchim Baṅgāl



"26 जनवरी(गणतंत्र दिवस)", 1950 भारतीय इतिहास में इसलिये भी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि भारत का संविधान, इसी दिन अस्तित्व मे आया और भारत वास्तव में एक संप्रभु देश बना। भारत का संविधान लिखित एवं सबसे बङा संविधान है। संविधान निर्माण की प्रक्रिया में 2 वर्ष, 11 महिना, 18 दिन लगे थे। भारतीय संविधान के वास्तुकार, भारत रत्न से अलंकृत डॉ.भीमराव अम्बेडकर प्रारूप समिति के अध्यक्ष थे। भारतीय संविधान के निर्माताओं ने विश्व के अनेक संविधानों के अच्छे लक्षणों को अपने संविधान में आत्मसात करने का प्रयास किया है। इस दिन भारत एक सम्पूर्ण गणतान्त्रिक देश बन गया।देश को गौरवशाली गणतन्त्र राष्ट्र बनाने में जिन देशभक्तो ने अपना बलिदान दिया उन्हे याद करके, भावांजली देने का पर्व है, "26 जनवरी।(गणतंत्र दिवस)"
मित्रो, भारत से व्यपार का इरादा लेकर अंग्रेज भारत आये थे, लेकिन धीरे -धीरे उन्होने यहाँ के राजाओं और सामंतो पर अपनी कूटनीति चालों से अधिकार कर लिया। आजादी कि पहली आग मंगल पांडे ने 1857 में कोलकता के पास बैरकपुर में जलाई थी, किन्तु कुछ संचार संसाधनो की कमी से ये आग ज्वाला न बन सकी परन्तु, इस आग की चिंगारी कभी बुझी न थी। लक्ष्मीबाई से इंदिरागाँधी तक, मंगल पांडे से सुभाष तक, नाना साहेब से सरदार पटेल तक, लाल(लाला लाजपत राय), बाल(बाल गंगाधर तिलक), पाल(विपिन्द्र चन्द्र पाल) हों या गोपाल, गाँधी, नेहरु सभी के ह्रदय में धधक रही थी।
13 अप्रैल 1919 की (जलिया वाला बाग) घटना, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की सबसे अधिक दुखदाई घटना थी। जब जनरल डायर के नेतृत्व में अंग्रेजी फौज ने गोलियां चला के निहत्थे, शांत बूढ़ों, महिलाओं और बच्चों सहित सैकड़ों लोगों को मार डाला था और हज़ारों लोगों को घायल कर दिया था। यही वह घटना थी जिसने भगत सिंहऔर उधम सिंह जैसे, क्रांतीकारियों को जन्म दिया। अहिंसा के पुजारी हों या हिंसात्मक विचारक क्रान्तिकारी, सभी का ह्रदय आजादी की आग से जलने लगा। हर वर्ग भारतमात के चरणों में बलिदान देने को तत्पर था।
अतः "26 जनवरी" को उन सभी देशभक्तों को श्रद्धा सुमन अपिर्त करते हुए, गणतंत्र दिवस का राष्ट्रीय पर्व भारतवर्ष के कोने-कोने में बड़े उत्साह तथा हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। प्रति वर्ष इस दिन प्रभात फेरियां निकाली जाती है। भारत की राजधानी दिल्ली समेत प्रत्येक राज्य तथा विदेषों के भारतीय राजदूतावासों में भी यह त्योहार उल्लास व गर्व से मनाया जाता है।
"26 जनवरी" का मुख्य समारोह भारत की राजधानी दिल्ली में भव्यता के साथ मनाते हैं। देश के विभिन्न भागों से असंख्य व्यक्ति इस समारोह की शोभा देखने के लिये आते हैं। हमारे सुरक्षा प्रहरी परेड निकाल कर, अपनी आधुनिक सैन्य क्षमता का प्रदर्शन करते हैं तथा सुरक्षा में सक्षम हैं, इस बात का हमें विश्वास दिलाते हैं।
परेड विजय चौक से प्रारम्भ होकर राजपथ एवं दिल्ली के अनेक क्षेत्रों से गुजरती हुयी लाल किले पर जाकर समाप्त हो जाती है। परेड शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री ‘अमर जवान ज्योति’ पर शहीदों को श्रंद्धांजलि अर्पित करते हैं। राष्ट्रपति अपने अंगरक्षकों के साथ 14 घोड़ों की बग्घी में बैठकर इंडिया गेट पर आते हैं, जहाँ प्रधानमंत्री उनका स्वागत करते हैं। राष्ट्रीय धुन के साथ ध्वजारोहण करते हैं, उन्हें 21 तोपों की सलामी दी जाती है, हवाई जहाजों द्वारा पुष्पवर्षा की जाती है।


आकाश में तिरंगे गुब्बारे और सफेद कबूतर छोड़े जाते हैं। जल, थल, वायु तीनों सेनाओं की टुकडि़यां, बैंडो की धुनों पर मार्च करती हैं। पुलिस के जवान, विभिन्न प्रकार के अस्त्र-षस्त्रों, मिसाइलों, टैंको, वायुयानो आदि का प्रदर्षन करते हुए देश के राष्ट्रपति को सलामी देते हैं। सैनिकों का सीना तानकर अपनी साफ-सुथरी वेषभूषा में कदम से कदम मिलाकर चलने का दृष्य बड़ा मनोहारी होता है। यह भव्य दृष्य को देखकर मन में राष्ट्र के प्रति भक्ति तथा ह्रदय में उत्साह का संचार होता है।
स्कूल, कॉलेज की छात्र-छात्राएं, एन.सी.सी. की वेशभूषा में सुसज्जित कदम से कदम मिलाकर चलते हुए यह विश्वास उत्पन्न करते हैं कि हमारी दूसरी सुरक्षा पंक्ति अपने कर्तव्य से भलीभांति परिचित हैं। मिलेट्री तथा स्कूलों के अनेक बैंड सारे वातावरण को देशभक्ति तथा राष्ट्र-प्रेम की भावना से गुंजायमान करते हैं। विभिन्न राज्यों की झांकियां वहाँ के सांस्कृतिक जीवन, वेषभूषा, रीति-रिवाजों, औद्योगिक तथा सामाजिक क्षेत्र में आये परिवर्तनों का चित्र प्रस्तुत करती हैं। अनेकता में एकता का ये परिदृष्य अति प्रेरणादायी होता है। "गणतन्त्र दिवस "की संध्या पर राष्ट्रपति भवन, संसद भवन तथा अन्य सरकारी कार्यालयों पर रौशनी की जाती है।
"26 जनवरी"  का पर्व देशभक्तों के त्याग, तपस्या और बलिदान की अमर कहानी समेटे हुए है। प्रत्येक भारतीय को अपने देश की आजादी प्यारी थी। भारत की भूमि पर पग-पग में उत्सर्ग और शौर्य का इतिहास अंकित है। किसी ने सच ही कहा है-

Tag:-गणतंत्र दिवस पर भाषण 2018,गणतंत्र दिवस पर भाषण 2018 भारतीय गणतंत्र दिवस गणतंत्र दिवस 26 जनवरी पर भाषण गणतंत्र दिवस पर शायरी स्वतंत्रता दिवस गणतंत्र दिवस पर भाषण स्वतंत्रता दिवस पर शायरी गणतंत्र दिवस पर भाषण 2017 26 जनवरी गणतंत्र दिवस स्वतंत्रता दिवस पर कविता गणतंत्र दिवस की शायरी स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण गणतंत्र दिवस पर भाषण 2016 गणतंत्र दिवस पर कविता स्वतंत्रता दिवस पर शेर स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर शेर स्वतंत्रता दिवस पर भाषण गणतंत्र दिवस पर निबंध गणतंत्र का अर्थ गणतंत्र दिवस पर गीत गणतंत्र दिवस पर छोटी कविता स्वतंत्रता दिवस पर बाल कविता स्वतंत्रता दिवस पर गीत स्वतंत्रता पर कविता गणतंत्र दिवस 2017 26 जनवरी पर शायरी 26 january speech in hindi for school 26 जानेवारी 2016 भाषण 26 जनवरी भाषण 26 जनवरी पर भाषण 2017 गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है 26 जनवरी गणतंत्र दिवस 2017 26 जानेवारी भाषण मराठी शायरी देशभक्ति पर गणतंत्र दिवस पर गीत गणतंत्र दिवस पर शेर गणतंत्र दिवस पर
26 जनवरी गणतंत्र दिवस शायरी 26 जनवरी गणतंत्र दिवस 2018 26 जनवरी 1950 गणतंत्र दिवस 2017 के मुख्य अतिथि 26 जनवरी शायरी 26 जनवरी गणतंत्र दिवस निबंध गणतंत्र दिवस पर भाषण २६जानेवारी भाषण मराठी भाषण 26 january speech in marathi wikipedia प्रजासत्ताक दिन कविता प्रजासत्ताक दिन निबंध प्रजासत्ताक दिन 2016 26 जानेवारी भाषण hindi, आंध्र प्रदेश Āndhra Pradēśh 2 Arunachal Pradesh अरुणाचल प्रदेश Aruṇāchal Pradēśh 3 Assam असम Asam 4 Bihar बिहार Bihār 5 Chhattisgarh छत्तीसगढ़ Chattīsagaṛh 6 Goa गोआ Gō’ā 7 Gujarat गुजरात Gujarāt 8 Haryana हरियाणा Hariyāṇā 9 Himachal Pradesh हिमाचल प्रदेश Himāchal Pradēśh 10 Jammu and Kashmir जम्मू और कश्मीर Jam’mū aur Kaśhmīr 11 Jharkhand झारखंड Jhārakhaṇḍ 12 Karnataka कर्नाटक Karnāṭaka 13 Kerala केरल Kērala 14 Madhya Pradesh मध्य प्रदेश Madhya Pradēśh 15 Maharashtra महाराष्ट्र Mahārāṣṭra 16 Manipur मणिपुर Maṇipur 17 Meghalaya मेघालय Mēghālaya 18 Mizoram मिज़ोरम Mizōram 19 Nagaland नागालैंड Nāgālaṇḍ 20 Odisha ओडिशा Ōḍiśā 21 Punjab पंजाब Pan̄jāb 22 Rajasthan राजस्थान Rājasthān 23 Sikkim सिक्किम Sikkim 24 Tamil Nadu तमिलनाडु Tamilanāḍu 25 Tripura त्रिपुरा Tripurā 26 Uttar Pradesh उत्तर प्रदेश Uttara Pradēśh 27 Uttarakhand उत्तराखंड Uttarākhaṇḍ 28 West Bengal पश्चिम बंगाल Paśchim Baṅgāl