Latest

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Friday, 10 August 2018

सकारात्मक सोच की शक्ति भाग 16:- तनाव मुक्ति की राह(in hindi)

सकारात्मक सोच की शक्ति भाग 16:- तनाव मुक्ति की राह


यह आलेख सकारात्मक सोच की शक्ति भाग 16:- तनाव मुक्ति की राह ,सकारात्मक सोच के बारे में है मेरे बारे में हमारे जीवन में सोच का बहुत महत्व होता है। जब हमारी सोच सही होती है या जब हम सकारात्मक सोचते हैं तो हमारे सभी काम भी सही तरीके से पूरे हो जाता है। जे व्यक्ति की सोच, सकारात्मक (पॉज़िटिव) सोच। जीवन, यह एक हमेशा चलते रहना चाहते हैं, सकारात्मक सोच आपको और अधिक खुशी, शांति, प्यार, सफलता और कई अन्य लोगों को अपना आत्मविश्वास, आत्म-सम्मान, साहस, आप डर से मुक्त महसूस करते हैं जो आप वर्तमान में सामना करते हैं। या आप अपने जीवन में कुछ भी करना चाहते हैं लेकिन आप किसी स्थान पर फंस गए हैं तो सकारात्मक ऊर्जा आपको इससे बाहर निकलने में मदद करती है हिंदी में सकारात्मक सोच से कई अलग-अलग लाभ इसलिए सकारात्मक रहें और अपने जीवन में आगे बढ़ें इस प्रकार के लेख आपको आपकी मदद करते हैं जीवन जहां ढेर सारी खुशियों के बीच में दुःख भी आते हैं।सकारात्मक सोच की शक्ति भाग 16:- तनाव मुक्ति की राह "


सकारात्मक सोच की शक्ति भाग 16:- तनाव मुक्ति की राह(in hindi)
सकारात्मक सोच की शक्ति भाग 16:- तनाव मुक्ति की राह(in hindi)


तनाव मुक्ति की राह



इन दिनों दुनिया भर में मानसिक बीमारियां बढ़ रही हैं पर इनकी ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है रोग का इलाज हो जाता है लेकिन मनोवृति से कोई दूसरा छुटकारा नहीं दिला सकता मन गलत कामों का जिम्मेदार होता है तो अच्छे भी करवाता है यह ऐसी समस्याएं हैं जिनका हल हमें खुद ही ढूंढना पड़ता है लेकिन हम हल ढूंढने की बजाय तनाव को जीवनसाथी की तरह अपना लेते हैं किसी भी शारीरिक मानसिक या भावनात्मक चुनौती के उद्दीपन का जवाब तनाव ही होता है इसमें हंसकर हर कोई खुद को व्यस्त रखता है कुछ तो यह कहते हैं कि डेडलाइन के तनाव में काम अच्छा हो जाता है यह समझना जरूरी है कि निरंतर तनाव शोर प्रदूषण और काम का दबाव कमजोर होते रिश्ते हर समय थका शरीर कहां तक जूझने की ताकत रख सकता है ?

Amsterdam के ड्रग रिसर्च सेंटर ने यह साबित कर दिया है कि तनाव से व्यक्ति को छोटी बात बड़ी लगने लगती है शांत व्यक्ति हिंसक तक बन सकता है मन और अहम व्यक्ति को चिंता में डाले रहते हैं क्योंकि वह हारना नहीं चाहते मनोविज्ञान का सुझाव है कि ऐसे में जीवन में बदलाव लाया जाए जो यह समझ लेगा कि लगातार तनाव नुकसानदायक है और जो उससे बचने की कोशिश करेगा वह ना सिर्फ खुद को स्वस्थ करेगा बल्कि अपने आसपास भी बेहतर इलाज सकेगा इसके लिए सबसे जरूरी यह है कि हमें अपने रिश्तो में मजबूती लानी होगी इस इनके सहारे खुद पर विश्वास बढ़ेगा दूसरों में दोष देखने और हर समय की होड़ से छुटकारा भी मिलेगा यह लंबी प्रक्रिया है जिसका कोई शॉर्टकट नहीं है।


मुझे उम्मीद है कि आपको यह सकारात्मक लेख सकारात्मक सोच की शक्ति भाग 16:- तनाव मुक्ति की राह(in hindi) पसंद है अंदर की आवाज़ें अनसुना ना करें ताकि आप प्रेरित हो जाएं और अपने जीवन में मुस्कुराते रहें
आने के लिए धन्यवाद !!।



\सकारात्मक सोच,सुविचार ,सुविचार हिंदी मे,सकारात्मक विचार ,सुविचार हिंदी में ,सुविचार इन हिंदी ,अच्छी सोच ,हिंदी सुविचार सुविचार फोटो सहित
हिन्दी सुविचार फोटो ,सुविचार हिंदी ,anmol suvichar
हिंदी सुविचार संग्रह ,सकारात्मक ,positive thinking in hindi

No comments:

Post a Comment

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();

Post Top Ad