सकारात्मक सोच भाग 14:-मोह के धागे

सकारात्मक सोच भाग 14:-मोह के धागे


यह आलेख सकारात्मक सोच के बारे में है,सकारात्मक सोच भाग 14:-मोह के धागे   मेरे बारे में हमारे जीवन में सोच का बहुत महत्व होता है। जब हमारी सोच सही होती है या जब हम सकारात्मक सोचते हैं तो हमारे सभी काम भी सही तरीके से पूरे हो जाता है। जे व्यक्ति की सोच, सकारात्मक (पॉज़िटिव) सोच। जीवन, यह एक हमेशा चलते रहना चाहते हैं, सकारात्मक सोच आपको और अधिक खुशी, शांति, प्यार, सफलता और कई अन्य लोगों को अपना आत्मविश्वास, आत्म-सम्मान, साहस, आप डर से मुक्त महसूस करते हैं जो आप वर्तमान में सामना करते हैं। या आप अपने जीवन में कुछ भी करना चाहते हैं लेकिन आप किसी स्थान पर फंस गए हैं तो सकारात्मक ऊर्जा आपको इससे बाहर निकलने में मदद करती है हिंदी में सकारात्मक सोच से कई अलग-अलग लाभ इसलिए सकारात्मक रहें और अपने जीवन में आगे बढ़ें इस प्रकार के लेख आपको आपकी मदद करते हैं जीवन जहां ढेर सारी खुशियों के बीच में दुःख भी आते हैं। बहुत सारी खुशियों के बाद, दुःख भी उत्पना ही आता है और वह चक्कर फिर से चालू होता है|


सकारात्मक सोच भाग 14:-मोह के धागे
सकारात्मक सोच भाग 14:-मोह के धागे


मोह के धागे


हम कहते हैं कि मृत्यु सुखद है फिर भी मन में उसका भाई होता है और वह चेतन में यह बात जमी हुई है कि मृत्यु के समय मनुष्य को मर्मर तक पीड़ाओं से गुजरना पड़ता है शास्त्रों में भी कहा गया है कि मरण समान वयना नत्थी यानी मृत्यु के समान कोई वेदना नहीं है जब आदमी किसी भी सुन कष्ट से खुजराहो तो उसके मुंह से यही निकलता है कि मौत के मुंह से निकल आया है इस भाई का दूसरा बड़ा कारण है जीवन के प्रति अनंत में सभी प्राणियों को अपना जीवन प्रिय होता है सभी जीना चाहते हैं मरना कोई नहीं चाहता सब जीवन से चिपके हुए दिखाई देते हैं वृद्ध वृद्ध और रोगी से रोगी व्यक्ति उनके मन में भी मृत्यु के समय जीवन के लिए एक तरफ छटपटाहट देखी जाती है।

महावीर जी को अनंत मोहे अनंत मोह की संज्ञा देते हैं मनोवैज्ञानिक ने जीने की लालसा को जिजीविषा कहते हैं इसे मनुष्य की बुनियादी अंदर प्रेरणाओं में गिन गिना जाता है प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक एरिक वंश मनुष्य के तीन मूलभूत विश्वासों में प्रथम इसी अंतः प्रेरणा को मानते हैं अपने अस्तित्व की अमरता में विश्वास बढ़ने की अनिवार्य घड़ी को सामने देखकर भी मरने से डर ना उसी जिजीविषा की झलक है इसके पीछे एक कारण अज्ञात के प्रति आशंका भी है कि कहीं नरक में ना जाना पड़ जाए शरीर के मुंह की तरह परिवार का भी मुंह पैदा हो जाता है कि परिवार का क्या होगा वह गीता में कृष्ण कथन को भूल जाते हैं कि जो जन्मा है उसकी मृत्यु निश्चित है जैसे वस्त्र जीवन हो जाने पर मनुष्य नए कपड़े धारण करता है वैसे ही शरीर के जन्म होने पर आत्मा नए शरीर को धारण करती है|


मुझे उम्मीद है कि आपको यह सकारात्मक लेख  सकारात्मक सोच भाग 14:-मोह के धागे ,पसंद है अंदर की आवाज़ें अनसुना ना करें,सकारात्मक सोच भाग 13:-सन्यास से मिलता है सौंदर्य ताकि आप प्रेरित हो जाएं और अपने जीवन में मुस्कुराते रहें
आने के लिए धन्यवाद !!।

सकारात्मक सोच,सुविचार ,सुविचार हिंदी मे,सकारात्मक विचार ,सुविचार हिंदी में ,सुविचार इन हिंदी ,अच्छी सोच ,हिंदी सुविचार सुविचार फोटो सहित
हिन्दी सुविचार फोटो ,सुविचार हिंदी ,anmol suvichar
हिंदी सुविचार संग्रह ,सकारात्मक ,positive thinking in hindi

0 टिप्पणियाँ