Stephen hawking :-The last letter that you should know ,स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए - EM

Latest

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Thursday, 2 August 2018

Stephen hawking :-The last letter that you should know ,स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए

Stephen Hawking: -The last letter that you should know, स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए:-

"यह आलेख स्टीफन हॉकिंग और इसकी खोजों और स्टीफन हॉकिंग का आखिरी पत्र है जो मृत्यु से पहले लिखा गया था और इस लेख के बीच हम स्टीफन हॉकिंग के बारे में एक प्रेरणा कहानी साझा करते हैं जो वास्तव में आपको हिंदी में इस लेख को पढ़ने के बाद प्रेरित करता है। आखिर में आप जानते हैं कि उस लेटर पर क्या है जो स्टीफन हॉकिंग द्वारा लिखी गई है|स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए"|


this image Stephen Hawking: -The last letter that you should know, स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए:- "यह आलेख स्टीफन हॉकिंग और इसकी खोजों और स्टीफन हॉकिंग का आखिरी पत्र है जो मृत्यु से पहले लिखा गया था और इस लेख के बीच हम स्टीफन हॉकिंग के बारे में एक प्रेरणा कहानी साझा करते हैं जो वास्तव में आपको हिंदी में इस लेख को पढ़ने के बाद प्रेरित करता है। आखिर में आप जानते हैं कि उस लेटर पर क्या है जो स्टीफन हॉकिंग द्वारा लिखी गई है|स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए"|
This image is about Stephen hawking  स्टीफन हॉकिंग 



Stephen hawking  स्टीफन हॉकिंग:-

ब्रह्मांड की गहराई तक थी उनकी उनकी पहुंच न्यूटन और आइंस्टाइन जैसे महान वैज्ञानिक की श्रेणी में गिने जाने जिन्हे जानेवाले ओ जानेवाले जानेवाले स्टीफन हॉकिंग नहीं रहे 14 मार्च 2018 की सुबह कैंब्रिज स्थित अपने घर में 76 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया कंप्यूटर एवं कीर्ति महाराज के सहारे बोलने वाले हो किन का शरीर था ना कि ज्यादातर पहिया कुर्सी तक ही सीमित रहा लेकिन इसमें कोई भी संदेह नहीं था कि उनके मस्तिष्क की पहुंच असीम ऊंचाइयों तक थी के बंधे हुए बावजूद हुए पूरे जोश के साथ देश विदेश घूम कर अपने व्याख्यान देते रहे संबंधी सिद्धांत ब्रह्मांड की और और ब्लैक होल के बारे में जानकारी रोचक ढंग से प्रस्तुत करते थे उन सबके बीच अपने अंदाज के लिए मशहूर हो गंभीर विषय पर अपने बीच बीच में एवं विनोद के पुतले आते थे इसका प्रत्यक्ष अनुभव हुआ जब उसे 17 जनवरी 2001 को नई दिल्ली के सीरी फोर्ट ऑडिटोरियम में आयोजित होगी भविष्य जनवरी 2001 मुंबई में आयोजित 211 में शामिल होने के लिए हुए थे तभी पता चला कि आकृतियों के लेखक का भौतिक विषय अपने के कारण इसमें को सुनने की इच्छा जागृत हुई और इच्छा पूर्ति के लिए हर कोशिश की पर सफल रहा लोगों में हॉकी को सुनने का इतना अच्छा था कि भीड़ भीड़ उमड़ चली आ रही थी ऑडिटोरियम खचाखच भरा था डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम राष्ट्रपति बनने से पूर्व के बीच बैठे थे देते हुए क्या भविष्य है दावा करते हैं भविष्य के बारे में अपनी प्रतिक्रिया इस प्रकार व्यक्त की थी अधिकांश वैज्ञानिकों द्वारा ज्योतिष पर विश्वास ना करने की वजह इसके पक्ष में वैज्ञानिक का होना या ना होना नहीं है अभी तो प्रयोग द्वारा साबित होने वाले सिद्धांत के साथ इसका तालमेल विसंगति नहीं बैठता है ध्यान के दौरान हॉकिंग ने कहा फ्रांसिस लाल लाल लाल का सहारा लिया था कि अगर ब्रह्मांड की रचना करने वाले समस्त स्थिति तथा उनके भेदों के बारे में सटीक जानकारी प्राप्त हो जाए तो फिर भविष्य निर्माण किया जाए संभव है लेकिन उनका कहना था कि निर्धारित सिद्धांत स्थान पर वर्ग द्वारा सन 1926 में प्रतिदिन ध्यान रखना जरूरी होगा ताकि भविष्य के निर्माण को लेकर एक छोटे कंप्यूटर की सहायता से बोलते हुए कहा कि हाइट के अनुसार ब्रमांड की गहराई तक थी और की उनकी पहुंच न्यूटन और आइंस्टाइन जैसे महान वैज्ञानिक इस अवधि में गिने जाने विनय जाने वाले इमेज ने दिन जाने वाले से कहो कि सब नहीं रहे 14 माह 2018 की सुबह कैंब्रिज अपने घर में 76 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया कंप्यूटर मुक्ति महाराज |


this image ia about Stephen Hawking: -The last letter that you should know, स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए:- "यह आलेख स्टीफन हॉकिंग और इसकी खोजों और स्टीफन हॉकिंग का आखिरी पत्र है जो मृत्यु से पहले लिखा गया था और इस लेख के बीच हम स्टीफन हॉकिंग के बारे में एक प्रेरणा कहानी साझा करते हैं जो वास्तव में आपको हिंदी में इस लेख को पढ़ने के बाद प्रेरित करता है। आखिर में आप जानते हैं कि उस लेटर पर क्या है जो स्टीफन हॉकिंग द्वारा लिखी गई है|स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए"|
This image is about Stephen hawking  स्टीफन हॉकिंग


स्टीफेन हाकिंग एक अद्वितीय एक अद्वितीय प्रेरणा पुंज


यदि व्यक्ति चाहे तो उसकी शरीर विकलांगता उसकी ऊंचाइयों को छूने से रोक नहीं सकती दुनिया में समय समय पर ऐसी विभूतियां जन्म लेती रही है जिन्होंने गंभीर स्थिति शारीरिक कमजोरी के बावजूद विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न क्षेत्रों में एक कीर्तिमान स्थापित किए हैं जिन्हें सुनकर सामान्य मनुष्य चकित हुए बिना नहीं रह सकता है निसंदेह स्टीफन हॉकिंस ऐसी विलक्षण विभूतियों में सदैव तत्पर रहेंगे हॉकिंग का जन्म 8 जनवरी 1942 में ब्रिटेन में ऑफ स्पोर्ट्स शहर में हुआ था और उनका निधन 14 मार्च 2018 में हुआ था क्षेत्र में किया गया एक ऐसी बीमारी से पीड़ित व्यक्ति धीरे-धीरे अपने ऊपर नियंत्रण रखने में समर्थ हो जाता है और इस दृष्टि से कार्य करने के योग हो जाता है और इस बात से लगाया जा सकता है कि जब हाकिंग यूनिवर्सिटी में अध्ययन कर रहे थे उनको चिकित्सकों ने उनकी मृत्यु होने की भविष्यवाणी की थी उस समय उनकी आयु 21 वर्ष थी चिकित्सकों को जलाते हुए आगे बढ़ते रहें उन्हें उन्होंने विवाह किया और उनसे हुए उन्होंने अपना जीवन का अधिकांश समय कंप्यूटर और ब्रह्मांड की उत्पत्ति और और गांव में बिताया भरा हाल उनके उनके सामने फिर उनके सामने एक नई चुनरी में दाग को दूर करने के लिए चिकित्सकों ने उनकी वजह से उनकी मौत हो गई उसके बाद बातचीत के लिए भी कंप्यूटर का सहारा लेते रहे इतनी सारी समस्याओं के बावजूद उल्लेखनीय है कि पिछले 5 वर्षों के दौरान उन्होंने दुनिया के चर्चित वैज्ञानिकों ने बनाया उनकी प्रतिभा का अंदाजा

अंदाजा इस तथ्य पर लगाया जा सकता है सन 1988 में प्रकाशित उनकी पुस्तक ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम ऑफ दुनिया में 40 भाषाओं में अनुवाद हो चुका है उनकी ढाई करोड़ से अधिक प्रतियां बिक चुकी है 13 मानद उपाधि से विभूषित डॉक्टर हाउसिंग अपने जीवन काल में दो बार 1999 2001 में भारत आए उन्होंने नई दिल्ली 17 जनवरी 2001 में दिन अल्बर्ट दिन अल्बर्ट आइंस्टाइन मेमोरियल लेक्चर दिया उनके वर्क फ्रॉम एस्ट्रोलॉजी द ब्लैक होल्स इस दौरान उनकी मुलाकात तत्कालीन राष्ट्रपति श्री नारायण से हुई थी उनकी पुस्तकों में यूनिवर्सिटी एवं एवं यूनिवर्सिटी शामिल है गणित के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया है उन्होंने का सिद्धांत अपने बारे में जो भी कर रहे हो दुनिया में हत्या के मामले में उन्हें मानते हैं उन्हें अपना अनुसंधान कार्यों के लिए अनेक पुरस्कार के सम्मान में सामने आया है जिसमें  विज्ञान विज्ञान के क्षेत्र में अंदाजा इस्तीफे लगाया जा सकता है सर 1988 में प्रकाशित उनकी पुस्तक kbc श्रॉफ टाइम ऑफ दुनिया में चार भाषाओं में अनुवाद वो चुका है उनकी ढाई करोड़ सादिक पता भी चुकी है 13 अमानत उग्रवादियों से भी उसे डॉक्टर हॉकिंग अपने जीवन काल में दो बार 19 99 2001 भारत सुनो नई दिल्ली 17 जनवरी 2008.


stephen hawking: -The last letter that you should know, स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए


जाते जाते अपने अभिनव बाउंड्री सिद्धांत में संशोधन सोझा गए हाकिंग उनकी कुछ अविष्कार जो उनके उनके मरने से पहले की गई है उसको मैं इस आर्टिकल यह पोस्ट के द्वारा मैं आपके साथ शेयर करना चाहता हूं जैसे कि अपने इधर से कुछ हफ्ते पूर्व हॉकिंग ने एक शोध पत्र जिससे उनका अंतिम शोध पत्र कहां कह सकते हैं और और एक अग्रणी जनरल में प्रकाशन के लिए भेजा था जिसका शीर्षक एयरपोर्ट एक्स फॉर्म इंसुलेशन इस शोध पत्र में उन्होंने बहू ब्रह्मांड यानी मल्टीवर्स यूनिवर्स का संक्षिप्तीकरण की 1983 में जेम्स जेम्स होटल के साथ मिलकर एक ब्रह्मांड की परिकल्पना की थी जिसकी कोई सीमा नहीं है जिसका ना कोई कोई आदि है और ना कोई अंत है एक छोटे छोटे में आया कि आज हम देखते हैं इस सिद्धांत के अनुसार ब्रह्मांड का एक प्रकार का विरोधाभास तथा उनके प्रयोग जांच के आ रहा था जाते-जाते अपने सभी नौ बोले सिद्धांत में संशोधन सोचा गए फॉकिंग उनकी को 24 बार जो उनके उनके मरने से पहले की गई है उसको मैं इस आर्टिकल एयरफोर्स के द्वार में आपके साथ शेयर करना चाहता हूं जैसे कि अपने शत्रु हैं|

मुझे आशा है कि आपको इस आलेख को स्टीफन हॉकिंग,stephen hawking :-The last letter that you should know ,स्टीफन हॉकिंग: - आखिरी पत्र आपको पता होना चाहिए के बारे में पसंद आएगा



Attitude is Everything So , pick a good one Individual if you like my post then share with your friends and family and comment Positive story,short inspirational Hindi story,short Hindi story,Entrepreneur Mindset (Em) ,Marketing,B2B,B2C,startup,Branding,Entrepreneurship quotes,I love you quotes, Hindi Quotes, Happy new year 2018 images below for more feedback visit for latest updates thanks for visiting:))

No comments:

Post a Comment

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();

Post Top Ad